www.poetrytadka.com

Barish Shayari

Barish Shayri 2 Line

Barish Shayri 2 Line

कभी बेपनाह बरसी कभी गुम सी है.
ये बारिश भी, कुछ-कुछ तुम सी है..!

Kabhi bepanaah barasi 
kabhi gum si hai.
Ye barish bhi, 
kuchh-kuchh tum si hai..!
 

Naseeb ki barishain

naseeb ki barishain

नसीब की बारिश कुछ इस तरह से होती रही मुझ पे...

ख्वाहिशे सुखती रही और पलके भीगती रही

Sawan aag lga ke chal diya

sawan aag lga ke chal diya

sapno me bhi mil naa sake ab neend bhi tere tath gaay sawan aag lga ke chal diya ro ro ke barsat huay !!

Sari raat barish hoti

अगर मेरी चाहतो के मुताबिक जमाने में हर बात होती !

तो बस मै होता तुम होती और सारी रात बरसात होती !!

Kabhi aankhen barasti hain

हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है ......

कभी बादल बरसते है...कभी आँखे बरसती है ...!!

सबसे बेस्ट शायरी Click Here