Aansu shayari

aansu shayari, आँसू शायरी, rula dene wali shayari

Aansuon Ki bahti nadi

सुहाना मौसम था हवा में नमी थी
आँसुओ की बहती नदी अभी अभी थमी थी,
मिलने की चाहत बहुत थी उनसे
पर उनके पास वक़्त और हमारे पास सांसो की कमी थी।

meri tanhai ki haqiqat

अच्छा हुआ ये आँसू बेरंग है वरना
हर सुबह..मेरे तकिये का बदला हुआ रंग
मेरी तन्हाई की हकीकत ब्यान कर देता !!

mat pucho ishq kaisa hota hai

मत पूछोये इश्क कैसा होता है !
बस यहीं समझ लीजिए जो रूलाता है ना
उसे ही गले लगाकर रोने को जी चाहता है !!

pagli teri mohabbat ne

पगली तेरी मोहब्बत ने मेरा यह हाल कर दिया है !
मैँ नही रोता लोग मुझे देख के रोते है !!

jo mera tha wo mera ho nahi paya

जो मेरा था वो मेरा हो नहीं पाया !
आँखों में आंसू भरे थे पर मैं रो नहीं पाया !!

rokne ki koshish

रोकने की कोशिश तो बहुत की पलकों ने !
पर इश्क में पागल थे आंसू खुदकुशी करते रहे !!

mushkurane ka hunar

लगता है भूल चूका हूँ, मुस्कुराने का हुनर !
कोशिश जब भी करता हूँ, आंसू निकल ही आते है !!

tum aankh ki barsat

तुम आँख कि बरसात बचाए हुए रखना !
कुछ लोग अभी....आग लगाना नही भुले !!

tanhai ke aansoo

मत पूछो मेरे दिल का हाल.आपके दिल भी बिखर जाएँगे !
इस लिए नही सुनाते अपने दिल का दर्द किसी को !
ये सुनके तो तन्हाई के भी आँसू निकले !!

apni to zindagi ki azib khani hai

अपनी तो ``ज़िन्दगी`` की अजीब कहानी है !
जिस चीज़ की चाहा है वो ही ''बेगानी'' है !
हँसते भी है तो दुनिया को ''हँसाने'' के लिए !
वरना दुनिया डूब जाये इन आखों में इतना पानी है !!