www.poetrytadka.com



Aansu Bhari Shayari

aansu bhari shayari

har baat bewafai ki kahani

तुम्हारी हर एक बात बेवफाई की कहानी है 

लेकिन तेरी हर साँस मेरी ज़िन्दगी की निशानी है 

तुम आज तक नहीं समझ सके मेरा पयार 

इसलिए मेरे आंसू भी तेरे लिए पानी है 

palko se gir ke aansoo

पलकों से गिरके आंसू रुक जाते तो अच्छा था 

तुम हमे याद ना करते तो अच्छा था 

टूटे दिल की फरयाद करे तो किससे करे 

मेरा दिल भी बदल जाता तो अच्छा था 

ro kar nahi dekha

बरसो गुजर गाए रो कर नहीं देखा 

आंखों में है नींद मगर सो के नहीं देखा 

वो क्या जाने दर्द मोहब्बत का 

जिसने कभी किसी का हो कर नहीं देखा 

darya wafaon ka kabhi rukta nahi

दरिया वफाओ का कभी रुकता नहीं 

मोहब्बत में इन्सान कभी झुकता नहीं 

खामूश है हम उनके ख़ुशी के खातिर 

वो समझते है की दिल हमारा दुखता  नहीं 

pyar me wo humko bewafa

प्यार में वो हमको बेपनाह कर गए 

फिर ज़िन्दगी में वो हमको तनहा कर गए 

चाहत थी उनके प्यार में फना होने की 

मगर वो लौट के आने को कर गए