www.poetrytadka.com

Nazar Shayari

Bepanah Pyaar

Bepanah Pyaar

तकदीर को कुछ इस तरह अपनाया है मैंने 

जी नहीं थी तकदीर में उसे बेपनाह चाहा हमने 

Mai mushafir hun

mai mushafir hun

मैं मुसाफ़िर हूँ ख़तायें भी हुई होंगी मुझसे !

तुम तराज़ू में मग़र मेरे पाँव के छाले रखना !!

Zra dekho

zra dekho

   जरा देखो तो ये  दरवाजे पे दस्तक किसने दी-अगर इश्क हो तो कहना अब दिल यहा नहीं रहता !!

Ye Ishq

पत्थर सा जिगर चाहिए ,साहिबा

ये इश्क है - - -

टूटना है, और टूटते ही जाना है ।

Dard bhari shayari hindi me

dard bhari shayari hindi me

निगाहों पे निगाहों के पहरे होते हैं !

इन निगाहों के घाव भी गहरे होते हैं !

न जाने क्यों कोसते है लोग दीवानों को !

बर्बाद करने बाले तो हसीन चेहरे होते हैं !