www.poetrytadka.com



4 line shayari

badal gya hoon mai

कुछ लोग कहते है की बदल गया हूँ मैं !
उनको ये नहीं पता की संभल गया हूँ म !
उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है !
परअब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मे !!

dil ke sare arman

मैंने दिलो जान दील के सारे अरमान !
सिर्फ उसीके नाम और उसी "वक़्त"कर दिए थे !
मोहोब्बत की वसीहत बनाई थी दिल मे !
और होशो हवास में उसपर "दस्तखत"कर दिए थे !!

beksi aur bebsi

बेकसी और बेबसी का आलम हमसे पूछिये !
ज़रा तन्हाई का आलम हमसे पूछिये !
कितनी दफ़ा कह चुके हैं मोहब्बत है तुमसे !
आँखो से लबों तक की ख़ामोशी का मतलब हमसे पूछिये !!

sun kar sab chal dete hai

सुन के सब चल देते है, मानता कोई नहीं!
टूटे रिश्ते खींच लेते है, बाँधता कोई नहीं!
जद्दोजहद इस दिल की दिल में दफन रहती हैं!
मुझे पहचानते तो सब है, जानता कोई नहीं !!

agar girna tha es trah

मेरी ख्वाबिन्दा उम्मीदों को जगाया क्यों था !
दिल जलना था तो फिर तुमने दिल लगाया क्यों था !
अगर गिरना था इस तरह नजरो से हमें !
तो फिर मेरे इस्सक को कलेजे से लगाया क्यों था !!