www.poetrytadka.com

Two Line Shayari

Aznabi ban kar gujar jana accha hai

जहाँ भूली हुई यादें दामन थाम लें दिल का !
वहां से अजनबी बन कर गुज़र जाना ही अच्छा है !!

Pahla kdam kon

फासला अब भी दो कदमों का ही है !
पहले कदम कौन बढ़ाये, तय ये नही है !!

Apna hote huae

जुर्म समझो तो नोच लो यह आँखे !
ख्वाब में देखा है तुम्हे अपना होते हुए !!

Teri aankhe jo bol jati hai

तेरी आँखे जो बोल जाती है तेरी साँसे जब गुनगुनाती है !
तब मेरी हर हसरत एक नया रूप पाती है !!

Yaad rahte hai aaj bhi

याद रखते है हम आज भी उन्हें पहले की तरह !
कौन कहता है फासले मोहब्बत की याद मिटा देते है !!
सबसे बेस्ट शायरी Click Here