www.poetrytadka.com



ek tum ko naa jit sake

एक तुम को ना जीत सके हम तुम को !
उम्र बीत गयी खुद को खिलाडी कहते कहते !!

apne hi hote hai jo dil pr

अपने ही होते है जो दिल पर वार करते है !
गैरों को क्या खबर दिल किस बात पर दुखता है !!

abhi ummid baki hai

अभी उम्मीद बाकी है कि वो बिछडा हुआ साथी !
किसी भी मोड पर मिल कर हैरान कर देंगा !!

ye tazurba huaa

ये तजुर्बा भी हुआ है, बुझे चिरागो से !
के हर अंधेरा हमे देखना सिखाता है !!

hairan tum naa hona

हैरान तुम ना होना उस के फैसले पर !
कब उस ने कहा था के धोखा नहीं देंगा !!