www.poetrytadka.com

suvichar on kismat

किस्मत पहले ही लिखी जा चुकी है; कोशिश करते रहो !
क्या पता किस्मत में लिखा हो कि कोशिश से ही मिलेगा:!!