www.poetrytadka.com

suraz ki ghathri

सूरज की गठरी खोली तो उसमें मिली रात रोती !
पत्थर के बिस्तर पर सोये हैं किसकी आँखों के मोती !!