www.poetrytadka.com

soch rhi hoo khat likhne ki

सोच रही हूँ ख़त लिखने की लेकिन क्या पैग़ाम लिखूँ !
तुझ बिन काटी रात लिखूँ या साथ गुज़ारी शाम लिखूँ !!