www.poetrytadka.com

Shaam Shayari

वो रोज़ देखता है डूबते सूरज को इस तरह 
काश मैं भी किसी शाम का मंज़र होता।

Wo roz dekhta hai 
doobte sooraj ko is tarah.
Kaash main bhi kisi 
Shaam ka manzar hota.
 

Shaam Shayari