www.poetrytadka.com

sara vazood zakhmi hai

एक ज़ख्म नही सारा वजूद ही ज़ख्मी है !
दर्द भी हैरान है कि उठूँ तो कहाँ से उठूँ !!