www.poetrytadka.com

sad shayari sangrah

sad shayari sangrah

गुरुर-ए-हुस्न की मदहोशी में, उनको ये भी नहीं खबर

कौन चाहेगा सिवा मेरे, उनको उम्र ढल जाने के बाद