www.poetrytadka.com

roz roz marna accha nahi lagta

दिल तो करता हैं जिन्दगी को किसी कातिल के हवाले कर दूं... . . इस जुदाई में रोज-रोज का मरना हमे अच्छा नहीं लगता|💔