www.poetrytadka.com

rooh tak kanp jati hai

इश्क वो खेल नहीं जो छोटे दिल वाले खेलें !
रूह तक काँप जाती है, सदमे सहते-सहते.!!