www.poetrytadka.com

Rain shayari in Hindi

बादलों को गुरूर था की वो ऊंचाई पर हैं.
जब बारिश हुई तो, उसे जमीन की मिटटी ही रास आयी 
Badlon ko guroor tha ki wo oonchai par hain
jab barish hui to usey jameen ki mitti ras aai.

कोई रंग नहीं होता बारिश के पानी में, 
फिर भी फ़िजा को रंगीन बना देती है..!!
Koi rang nahin hota barish ke pani me
fir bhi fiza ko rangeen bana deti hai.

Rain shayari in Hindi
सबसे बेस्ट शायरी Click Here