www.poetrytadka.com

allama iqbal shayari


मत कर खाक के पत्ते पर गुरूर वबे न्याजी इतनी 

खुद को खुद में झांक कर देख तुझ में रक्खा क्या है 

Allama Iqbal Shayari