Poetry Tadka

khud ko khud se bichadte dekha

khud ko khud se bichadte dekha

ruksat yaar ka bhi kya manjar tha yaaro
humne khud ko khud se bichadte dekha
रुक्सत यार का भी क्या मंजर था यारो
हमने खुद को खुद से बिछडते देखा

main khud ko tujh se mita lunga badi ehtehaat ke saath
to bus nishaan laga de jahan jahan main basa hua huwa hoon
मैं खुद को तुझ से मिटा लुँगा बडी ऐहतिहात के साथ
तो बस निशाँ लगा दे जहाँ जहाँ मैं बसा हुआ हुवा हूँ

tere siva kuch nahi mila mujhe

tere siva kuch nahi mila mujhe

100 baar talash kya khud ko khud main
1 tere siva kuch nahi mila mujh ko mujh main
100 बार तलाश क्या खुद को खुद मैं
एक तेरे सिवा कुछ नहीं मिला मुझ को मुझ मैं

jawani main zanaja uthne ka maza hi kuch aur hai
inke bhi asoon aa jate hai jinko hamara jeena accha nahi lagta
जवानी में जनाजा उठने का मजा ही कुछ और है
इनके भी आसूं आ जाते है जिनको हमारा जीना अच्छा नहीं लगता

kaha wafa milti hai shayari

kaha wafa milti hai shayari

kaha wafa milti hai in haseen insaano main
ye log bigair matlab ke tu khuda ko bhi yaad nahi karte
कहा वफा मिलती है इन हसीं इंसानो मैं
ये लोग बिगैर मतलब के तू खुदा को भी याद नहीं करते

dekho laut aayi hi phir se barish yahan
bus 1 tum ho jo abhi tak aane ki fursat nahi tumko
देखो लौट आयी ही फिर से बारिश यहाँ
बस 1 तुम हो जो अभी तक आने की फुर्सत नहीं तुमको

dillagi na ho jaye kisi se

dillagi na ho jaye kisi se

dillagi na ho jaye kisi se bus ye khayal rakhna
dil to gujar jaate hau khuda ki kasam raaten nahi garti
दिल्लगी न हो जाये किसी से बस ये ख्याल रखना
दिल तो गुजर जाते है खुदा की कसम रातें नहीं गरती

jo yahan se na jata tha kabhi
aaj wo yaha se chala gaya hai
जो यहाँ से न जाता था कभी
आज वो यहाँ से चला गया है

phale main accha tha ab bura kaise ho gaya

phale main accha tha ab bura kaise ho gaya

phale main accha tha ab bura kaise ho gaya
tum to badle ho magar lafz to mat badlo
पहले मैं अच्छा था अब बुरा कैसे हो गया
तुम तो बदले हो मगर लफ्ज तो मत बदलो

kis tarah se khatam kare inse rishta
jin se milne par hum duniya hi bhul jate hai
किस तरह से खत्म करे इनसे रिश्ता
जिन से मिलने पर हम दुनिया ही भूल जाते है

hamesha rakha hai intezar tera

hamesha rakha hai intezar tera

aakhen rehti hai shaam woshar muntazar teri
aankho ko shaop rakha hai intezar tera
अब वही करने लगे दिदार से आगे की बात
जो कभी कहते है सिर्फ दिदार ही काफी है

log kehte hai mera yaar chand ka tukda hai
main kehta hoon chand mere yaar ka tukda hai
लोग कहते है मेरा यार चाँद का टुकडा है
मैं कहता हूँ चाँद मेरे यार का टुकडा है

jana teri yaadon main kho jana

jana teri yaadon main kho jana

khayalo main bhatak jana teri yaadon main kho jana
bohut mahenga pada humko fakat tera ho jana
खयालो मैं भटक जाना तेरी यादों में खो जाना
बहुत महँगा पडा हुमको फकत तेरा हो जाना

ab wahi karne lage didaar se aage ki baat
jo kabhi kehte hai sirf didaar hi kaafi hai
अब वही करने लगे दिदार से आगे की बात
जो कभी कहते है सिर्फ दिदार ही काफी है

jo mere barbadi main saath diya karte the

jo mere barbadi main saath diya karte the

jo mere barbadi main saath diya karte the
hairaan hoon aaj unko apne maut par dekh kar
जो मेरे बर्बादी मैं हाथ दिया करते थे
हैरान हूँ आज उनको अपने मौत पर देख कर

hum apni jaat main aesa kamaal rakhte hai
ke log khud hamhe yaad rakhte hai
हम अपनी जात में ऐसा कमाल रखते है
के लोग खुद हम्हे याद रखते है

gazab ka pyar tha uski aankhon mein

gazab ka pyar tha uski aankhon mein

gazab ka pyar tha unki aankhon main
mehsoos tak na hone diya ke ye aakhiri mulaqat hai
गजब का प्यार था उनकी आँखों मैं
मेहसूस तक न होने दिया कि ये आखरी मुलाकात है

har roz tujhe ko dekh to sakte hai
teri gali ke log bade khus naseeb hai
हर रोज तुझे को देख तो सकते है
तेरी गली के लोग बडे खुश नसीब है

couple shayari facebook hindi

couple shayari facebook Hindi

meri pasand bohut la jawab hoti hai
nahi hai yakeen to 1 baar ayina dekho
मेरी पसंद बोहुत ला जवाब होती है
नहीं है यकीं तो एक बार आइना देखो

jis phool main khusbo na ho isse haar bana kar kya karna
jis dost main wafa na ho usse yaar bana kar kya karna
जिस फूल में खुसबो न हो इससे हार बना कर क्या करना
जिस दोस्त मैं वफा न हो उसे यार बना कर क्या करना