www.poetrytadka.com

Naaz na ho

वो हुस्न ही क्या जिसे नाज ना हो..

और वो इश्क ही क्या जिसमें आग ना हो

Naaz na ho