www.poetrytadka.com

mujhko rulane ki

क्या जरुरत थी तुम्हेँ मेरे इतना पास आने की !
आकर फिर मुझको अकेला छोङ कर यूँ तङपाने की !
माना तुम मेरी जिँदगी बन चुके हो !
पर आदत है तुम्हारी मुझको रुलाने की !!