Poetry Tadka

Masik Betan

मासिक बेतन पूरनमासी का चाँद है, जो एक दिन दिखाई देता है!
और घटते-घटते खत्म हो जाता है!
मुंशी प्रेमचन्द्र के अनमोल विचार और वचन पोएट्री तड़का डॉट कॉम पर !!

masik betan