www.poetrytadka.com

Mar guzer gai

खुशीयां बटोरते बटोरते उमर गुजर गई !

पर खुश ना हो सके, एक दिन एहसास हुआ !

खुश तो वो लोग थे जो खुशीयां बांट रहे थे !!