Love Shayarinarazgi chahe kitni

love shayrai narazgi chahe kitni

इस प्यार का किस्सा क्या लिखना
एक बैठक थी बर्खास्त हुयी
is pyaar(Love) ka kissa kya likhana
ek baithak thee barkhaast huyee

तेरा प्यार पहन कर पूरी हूँ
नहीं करना हार श्रृंगार पिया
tera pyaar(Love) pahan kar pooree hoon
nahin karana haar shrrngaar piya

तुम्हारे बाद भला ज़िन्दगी कहाँ जीते
तुम्हारे बाद तो साया भी हमसफ़र न था
Tumahare baad bhala zindagi kahan jeetey
Tumhare baad to saya bhi hamsafar na tha

‏मोहब्बत तुम्हारे बाद और वो भी किसी और से
ऐसे इश्क़ का मैं सर क़लम न कर दूँ
Love tumhare baad aur wo bhi kisi aur se
Aisey ishq ka main sar qalam na kar dun

दर हक़ीक़त मुझे तुम्हारे सिवा कुछ नज़र नहीं आता
हक़ीक़त यह मुझे तुम्हारे सिवा किसी को देखने की चाह ही नहीं
Dar haqeekat mujhey tumhare siwa kuch nazar nahin aata
Haqeekat yah mujhey tumhare siwa kisi ko dekhne ki chaah he nahin

आप कहते थे कि रोने से न बदलेंगे नसीब
उम्र भर आप की इस बात ने रोने न दिए
Aap kahte the ki roney se na badlengey naseeb
Umr bhar aap ki is baat ne rone na dia

Read More Love shayari in hindi