www.poetrytadka.com

love shayari sangrah

love shayari sangrah

दिल्लगी नहीं शायरी जो किसी हुस्न पर बर्बाद करें

यह तो एक शमा है जो उस नूर का पयाम है.