www.poetrytadka.com

kyu na sja milti

kyu na sja milti

क्यों ना सजा मिलती हमे मोहब्बत में आखिर 

हमने भी बहुत दिल तोड़े थे उस शख्स की खातिर