www.poetrytadka.com

kya khoob

Last Updated

क्या खूब मजबूरिया थी मेरी भी

अपनी खुशी को छोड़ दिया

उसे खुश देखने के लिए

kya khoob