www.poetrytadka.com

kuch aaysi pyas thi meri

कुछ ऐसी प्यास थी मेरे लबों के दरमियाँ !
मैं ओढ़ कर संमुदर साहिल पे सो गई !!