www.poetrytadka.com

kise sunaae apne gam

kise sunaae apne gam

किसे सुनाएँ अपने गम के चन्द पन्नों के किस्से !
यहाँ तो हर शख्स भरी किताब लिए बैठा है !!