Kavita Kosh

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं

कुछ इक पल के, कुछ दो पल के

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं

कुछ परों से हल्के होते हैं

बरसों के तले चलते चलते

भारी भरकम हो जाते हैं

कुछ भारी भरकम बर्फ़ के से

बर्सों के तले गलते गलते

हलके फ़ुल्के हो जाते हैं

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं

नाम होते हैं कुछ रिश्तों के

कुछ रिश्ते नाम के होते हैं

रिश्ता वो अगर मर भी जाए तो

बस नाम से जीना होता है

बस नाम से जीना होता है

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं !!

Kavita Kosh कविता कोश

मुख्य पेज पर वापस जाए