Poetry Tadka

Karodh

क्रोध कभी बिना तर्क के नहीं होता, लेकिन कभी कभार ही एक अच्छे तर्क के साथ।

karodh