www.poetrytadka.com

Thokar Shayari in Hindi

कभी कभी पत्थर की ठोकर से भी नहीं आती खरोच, 
और कभी ज़रा सी बात से इंसान बिखर जाती है.
Kabhi kabhi patthar ki thokar se bhi 
nahin aati kharoch, 
Aur kabhi zara see baat se 
insaan bikhar jati hai. 

ठोकर खाया हुआ दिल है साहब 
भीड़ से ज्यादा तन्हाई अच्छी लगती है !!
Thokar khaaya hua dil hai saahab 
bheed se jyaada tanhaee 
achchhee lagatee hai !!
 

Thokar Shayari in Hindi