jeena sikha diya

zindagi shayari jeena sikha diya

अफसोस तो है तेरे बदल जाने का मगर
तेरे कुछ बातो ने मुझे जीना सिखा दिया

kabar ke sannate main 1 awaaz aayi
kisne phool rakh kar asoon ki 2 bund bahayi
काबर के सन्नाटे में 1 आवाज़ आयी
किसने फूल रख कर असून की 2 बून्द बहाई

jab tak zinda tab tak yaad nahi aayi
ab so raha hoon to kis ko meri yaad aayi
जब तक ज़िन्दा तब तक याद नहीं आयी
अब सो रहा हूँ तो किस को मेरी याद आई

कृपया शेयर जरूर करें

Read More