www.poetrytadka.com

Humko ye btana nahi aata

ना रूठना तुम हमसे कभी कि !
हमें तो मनाना भी नहीं आता !
चाहत कितनी है तुम्हारे लिये दिल में !
हमको ये बताना भी नहीं आता !!