www.poetrytadka.com

hum bhi mouzood the

हम भी मौजूद थे तकदीर के दरवाजे पे !
लोग दौलत पर गिरे , हमने तुजे मांग लिया !!