www.poetrytadka.com

Hindi Suvichar Hindi

अपने हिसाबसे जिओ लोगो की सोच का क्या,
वो कंडीसन के हिसाब से बदलती रहती है,
आगे चाय में मक्खी गिरे तो चाय फेक देते है,
और अगर देसी घी में गिरे तो मक्की को फेक देते है.
apane hisaabase jio logo kee soch ka kya,
vo kandeesan ke hisaab se badalatee rahatee hai,
aage chaay mein makkhee gire to chaay phek dete hai,
aur agar desee ghee mein gire to makkee ko phek dete hai.

संभव की सीमा जानने का एक ही तरीका है,
असंभव से भी आगे निकल जाना.
sambhav kee seema jaanane ka ek hee tareeka hai,
asambhav se bhee aage nikal jaana.

रफ्तार जिंदगी की कुछ युँ बनाए रखिये के.
कोई दुश्मन आगे ना निकल जाए और कोई दोस्त पीछे ना छूट जाये.
raphtaar jindagee kee kuchh yun banae rakhiye ke.
koee dushman aage na nikal jae aur koee dost peechhe na chhoot jaaye.

क्रोध एक ऐसा तेजाब है जो जिस चीज पे डाला जाता है उससे,
ज्यादा उस पात्र को नुकसान पहुंचाता है जिसमे वो रखा है.
krodh ek aisa tejaab hai jo jis cheej pe daala jaata hai usase,
jyaada us paatr ko nukasaan pahunchaata hai jisame vo rakha hai.

हम खुसी के विषय में सोचेंगे तो हम खुश रहेंगे,
हम दुःख के विषय में सोचेंगे तो हम दुखी रहेंगे.
ham khusee ke vishay mein sochenge to ham khush rahenge,
ham duhkh ke vishay mein sochenge to ham dukhee rahenge.

Hindi Suvichar Hindi
सबसे बेस्ट शायरी Click Here