hindi shayari garibi

वो राम की खिचड़ी भी खाता है
रहीम की खीर भी खाता है
वो भूखा है जनाब उसे
कहाँ मजहब समझ आता है

Read More गरीबी शायरी
Share via Whatsapp