www.poetrytadka.com

har mulaqat me maksad

ताज्जुब न कीजिएगा गर कोई दुश्मन भी आपकी खैरियत पूछ जाए !
ये वो दौर है जहाँ, हर मुलाकात में मकसद छुपे होते है !!