www.poetrytadka.com

Hamsafar Koi Nahin

अजब पहेलियां है हाथों की लकीरों में !
सफर ही सफर लिखा है हमसफर कोई नहीं !!