www.poetrytadka.com

gustakhi

जनाब मत पूछिए हद हमारी गुस्ताखियों की !
हम आईना ज़मीं पर रखकर आसमां कुचल दिया करते है !!