www.poetrytadka.com

ghar ki zroorat

Last Updated

मै सो रहा था ओढ़ कर चादर नशीब की !

घर की जरूरतों ना अचानक जगा दिया !!

ghar ki zroorat