Four famous dard bharis shayari

four famous dard bharis shayari in hindi me

दर्द हल्का है साँस भारी है
जिए जाने किस रस्म जारी है
Dard halka hai sans bhaari hai
Jiye jane kis rasm jari hai

दर्द बनकर समा गया कोई
दिल में काँटे चुभा गया कोई
Dard bankar samo gaya koi
Dil me kante chubho gaya koi

Dil Ki dahleez par rakh kar teri yaadon ke chiraag
Humne duniyan ko mohabbat ke ujaale bakhshey

Aa bichadne ka koi aur tareeqa dhoodhen
Pyyar badhta hai meri jaaan khafa rahne se
आए बिछडने का कोई और तरीका ढूंढें
प्यार बढता है मेरी जां खफा रहने से

मेरे साथ चलना है तो दर्द सहने के आदि बन जाओ
मेरा मसला है काँटों से खेलना और तुम फूल जैसी हो
mere saath chalana hai to dard sahane ke aadi ban jao
mera masala hai kaanton se khelana aur tum phool jaisee ho

आज क्यों तकलीफ होती है तुम्हें बेरुखी की
तुम्ही ने तो सिखाया है कैसे दिल जलाते हैं
aaj kyon takaleeph hotee hai tumhen berukhee kee
tumhee ne to sikhaaya hai kaise dil jalaate hain

कृपया शेयर जरूर करें

Read More