www.poetrytadka.com

fir teri yaad

हजारों अश्क़ मेरी आँखों की हिरासत में थे !
फिर तेरी याद आई और इन्हें जमानत मिल गई !!