es kadar dhokha

मैंने खाया है चिरागों से इस कदर धोखा,

मै जल रहा हूँ सालों से मगर रौशनी नहीं होती