www.poetrytadka.com

Ek to ye raat uspe ye barsat

एक तो ये रात उसपर ये बरसात 

एक तो साथ नहीं तेरा उस पर दर्द बेहिसाब 

कितनी अजीब सी बात मेरे ही बसमे नहीं मेरे हालात