Poetry Tadka

Ek sakhs

बिछड़ा कुछ इस अदा से कि रुत (मौसम ) ही बदल गई, एक सख्स सारे शहर को वीरान कर गया। Mir Taqi Mir Shayari

ek sakhs mir taqi mir shayari