www.poetrytadka.com

ek pal me zingagi bhar ki udasi de gaae

एक पल में ‪ज़िन्दगी‬ भर की उदासी दे गया !
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !
नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास !
ज़र्द ‪मौसम‬ बाँझ रुत को बे-लिबासी दे गया !!