www.poetrytadka.com

Ek Dard

मैं रोज़ पिलाता हूँ उसे ज़हर का सागर!
एक दर्द जो अंदर है मरता हे नहीं !!