dil me rahna sekho

zindagi shayari dil me rahna

dil me rahna sekho ghar me to sabhi rahte hai

raha na dil main be-dard aur dard raha
mukeem kon huwa hai mukaam kis ka hai
रहा न दिल मैं बे-दर्द और दर्द रहा
मुकीम को हुवा है मुक़ाम किस का है
ek shaam mohabbat ki lagao yaaro
jo roote hai inko bhi bulao yaaro
एक शाम मोहब्बत की लगाओ यारों
जो रूट है इनको भी बुलाओ यारो

safar zindagi ka kaise katega aakhir
dilon se nafrat ke parde hatao yaaro
सफ़र ज़िन्दगी का कैसे कटेगा आखिर
दिलों से नफ़रत के परदे हटाओ यारो

कृपया शेयर जरूर करें

Read More