www.poetrytadka.com

Dil ke zakhmo kounse chupana pda

दिल के जख्मो को उनसे छुपाना पड़ा !
आखे तर है मगर मुस्कुराना पड़ा !
कैसे चले है मोहब्बत के सिलसिले !
रूठना चाहते थे हम मनाना उन्हें पड़ा !!