www.poetrytadka.com

dariya wfaao ka kabhi rukta nahi

दरिया वफाओं का कभी रुकता नहीं !
मोहब्बत में इंसान कभी झुकता नहीं !
खामोश हैं हम उनकी ख़ुशी के लिए !
वो समझते हैं कि दिल हमारा दुखता ही नहीं !!